mangalnathmandirujjain.com

Puja’s done are 100% satisfactory and fruitful

Phone No.

+91 91119 96634

EMAIL US

info@mangalnathmandirujjain.com

काल सर्प दोष 

Kalsarp Yog, also known as “Kalsarpa Dosha,” is a specific alignment of planets in a person’s birth chart that is believed to bring negative effects on their life. However, it is important to note that the effects of Kalsarp Yog can vary depending on the specific placement of the planets, mangalnath mandir Ujjain. as well as the strength of those planets. It is important to seek the advice of an experienced astrologer to understand the specific effects of Kalsarp Yog in an individual’s chart, and to determine the appropriate remedy. Some astrological conditions that are believed to intensify the effects of Kalsarp Yog include the placement of Rahu and Ketu in specific houses, and the presence of certain planets in those houses.

काल सर्प दोष के प्रकार :

ज्योतिष शस्त्र में काल सर्प दोष के 12 प्रकर बताये हे 

  1. वासुकि कालसर्प दोष,
  2. शंखपाल कालसर्प दोष,
  3. पद्म कालसर्प दोष
  4. महापद्म कालसर्प दोष
  5. तक्षक कालसर्प दोष
  6. कर्कोटक कालसर्प दोष
  7. शंखचूड़ कालसर्प दोष
  8. विषधर कालसर्प दोष
  9. शेषनाग कालसर्प दोष
  10. घातक कालसर्प दोष
  11. कुलिक कालसर्प दोष
  12. अनन्त कालसर्प दोष

काल सर्प दोष  निवारण : 

  • प्रत्येक  सोमवार को शिवमंदिर में शिवलिंग का जल व् दूध से अभिषेक करना | 
  • 108 बार ॐ नमः शिवाय का जप करना , नागा नागिन का जोड़ा शिवलिंग को अर्पित करना ,
  • 108 महाम्रत्युन्जय मंत्र का जप करना , आदि 

काल सर्प दोष पूजा उज्जैन में करने का महत्त्व : 

विश्व में महाकालेश्वर व नाग स्थली को उज्जैन (अवंतिका ) नगरी में मुख्य स्थान प्राप्त हे | प्राचीन काल में उज्जैन को नाग सथली  भी बोलै जाता हे | इसलिए उज्जैन में होने वाली पूजन महामर्तुन्जय जप , मंगल दोष पूजा , काल सर्प दोष पूजा , पितृ दोष , ग्रह शांति दोष पूजा व अन्य धार्मिक पूजा का महत्त्व अधिक हे , परन्तु उज्जैन प्राचीन काल में नागस्थली होने के कारण काल सर्प दोष निवारण के लिए  मुख्य हे |  

प्राचीन काल में उज्जियन को भैरव तीर्थ व नागतीर्थ भी कहते थे | कहा जाता हे की राजा जन्मेजय में नागो के विनाश के लिए महा यज्ञ का आयोजन किया | जरकतारू  के पुत्र आस्तिक मुनि  ने  इस महा यज्ञ को रोका था और महा विनाशी यज्ञ का स्थान परिवर्तन किया था | और उसे उज्जैन में स्थान दिया गया था | 

इसलिए उज्जैन की गयी काल सर्प दोष की पूजा आती फल दायी होती हे |